सेक्स के दौरान महिलाओं को होते हैं 6 ओर्गास्म, जानें कौनसे हैं वो

0
433

सेक्स के बारे में कई अध्ययन हो चुके हैं और इसमें नई जानकारी सामने आती है. स्टडीज़ में ऐसा पाया गया है कि पुरुषों को जहां ऑर्गैज्म की अनुभूति केवल सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद ही होती है. वहीं महिलाओं के मामले में ऐसा नहीं. उन्हें सेक्स के दौरान कई प्रकार से ऑर्गैज़्म महसूस कराया जा सकता है. लेकिन बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं कि महिलाओं को मल्टीपल ऑर्गैज़्म हो सकता है. यहां जान सकते हैं इसी के बारे में.

स्किन ऑर्गैज़्म- लड़कियों अगर आपको लगता है कि केवल मास्टरबेशन या सेक्स से ही ऑर्गैज़्म प्राप्त किया जा सकता है तो बता दें, रिसर्चर्स के मुताबिक त्वचा पर सिहरन की वजह से दिखने वाले गोल दाने स्किन ऑर्गैज़्म का प्रमाण हैं. ऊंचे स्वर वाला वेस्टर्न क्लासिकल म्यूज़िक भी आपको स्किन ऑर्गैज़्म प्रदान कर सकता है. इसलिए अगली बार सेक्स से पहले म्यूज़िक ऑन कीजिए.

क्लिटोरल ऑर्गैज़्म – महिलाओं को महसूस होने वाला सबसे आम ऑर्गैज़्म का प्रकार क्लिटोरल ऑर्गैज़्म (Clitoral orgasm) है. दरअसल क्लाइटॉरिस से लगभग 8,000 नसें जुड़ी होती हैं जो इसे बहुत संवेदनशील बना देती हैं और क्लाइटॉरिस को छुने से उत्तेजना उत्पन्न होती है.

वैजाइनल ऑर्गैज़्म – बहुत कम महिलाएं वैजाइनल ऑर्गैज़्म महसूस कर पाती हैं लेकिन स्टडीज़ में ऐसा पाया गया है कि लगभग 30% महिलाओं ने ऐसा दावा किया है कि उन्होंने वैजाइनल ऑर्गैज़्म महसूस किया है. जहां अभी तक इस बात पर भी विवाद चल रहा है कि जी-स्पॉट होते भी है या नहीं वहीं लेकिन डीप पेनिट्रेशन वाली किसी भी सेक्स पोजिशन की मदद से आप अपनी फीमेल पार्टनर को वैजाइनल ऑर्गैज़्म महसूस करा सकते हैं.

ब्लेंडेड ऑर्गैज़्म – ऑर्गैज़्म का यह प्रकार वैजाइनल और क्लिटोरल ऑर्गैज़्म का मिश्रण है. आप अगर अपनी फीमेल पार्टनर को ब्लेंडेड ऑर्गैज़्म महसूस कराना चाहते हैं तो फोरप्ले से शुरुआत करें. किसिंग, टचिंग और एक-दूसरे की मसाज कीजिए. गर्ल ऑन टॉप पोजिशन भी ब्लेंडेड ऑर्गैज़्म प्राप्त करने का एक अच्छा तरीका है.

एनल ऑर्गैज़्म- कुछ महिलाओं को एनल सेक्स के दौरान ऑर्गैज़्म महसूस होता है. दरअसल एनल सेक्स के दौरान वैजाइना और रेक्टम के बीच की वॉल के ज़रिए जी-स्पॉट को इनडायरेक्ट स्टिम्युलेशन मिलता है हालांकि,यह भी समझने की ज़रूरत है कि सभी महिलाओं को एनल ऑर्गैज़्म महसूस नहीं होता और उनकी शिकायत है कि एनल सेक्स असुविधाजनक और बहुत अधिक दर्दभरा होता है.

निप्पल ऑर्गैज़्म- किसी भी महिला के निप्पल्स बहुत ही संवेदनशील होते हैं क्योंकि विभिन्न नसें इससे जुड़ी होती हैं. सही तरीके से स्टिम्युलेट किए जाने पर ज़्यादातर महिलाएं निप्पल ऑर्गैज़्म महसूस कर सकती हैं. हालांकि, बहुत सख़्ती बरतने या दांत लगाने से उल्टा असर भी पड़ सकता है. इसलिए उनके साथ प्यारभरा बर्ताव करें और आपकी पार्टनर से पूछें कि उसे क्या अच्छा लगता है.

 

srcntl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × one =