तो कुछ इस तरह से बनाई जाती है सेक्स डॉल,Video देख खुली की खुली रह जाएगी आपकी आँखे

0
154

वैसे तो आजकल सेक्स टॉएज़ का चलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है। लोग अपनी कामवासना को शांत करने के लिए इनका उपयोग करते हैं। और इन सेक्स टॉएज में जो सबसे तेजी से लोकप्रिय हो रही है वो है. सेक्स डॉल

इन्हे देखकर भले ही आप इन्हें कोई डॉल्स नहीं बल्कि लड़कियां समझें लेकिन वास्तव में ये रीयल दिखने वाले सेक्स टॉएज है। इन डॉल्स को सेक्स डॉल या लव डॉल कहा जाता है।ये डॉल्स बिल्कुल लड़कियों जैसी बनी है। इन डॉल्स के प्राइवेट पार्ट भी वैसे ही बने हैं। कुछ डॉल्स तो चार्जेबल भी होती हैं।कहा जाता है कि 17वीं सदी में अपने घर और महिलाओं से दूर रहने वाले पुरुष सेक्स उत्तेजना के लिए रबर की डॉल का इस्तेमाल अपनी संतुष्टि के लिए करते थे.

फ्रांसीसी नाविकों ने पहली बार इस तरह के उपकरण का इस्तेमाल किया। लेकिन इसका सबसे ज्यादा लोकप्रिय मॉडल 1904 में पेटेंट कराया गया। तब इसके बारे में कहा गया था कि यह सिर्फ़ सज्जन पुरुषों के लिए है।विश्व युद्ध-2 के दौरान सिपाहियों के लिए भी सेक्स डॉल्स बनवाई गई थी। गौरतलब है कि सेक्स टॉय ऐसे उपकरण हैं जो सेक्शुअल आनंद को बढ़ाते हैं। इनका उपयोग केवल सिंगल लोग ही नहीं बल्कि कपल भी करना पंसद करते हैं।

वैसे ये बात और है कि ऑनलाइन पर आसानी से मिल जाने वाले इन सेक्स टॉएज को खरीदने के लिए आज भी लोग काफी संकोच करते हैं इनका सबसे ज्यादा इस्तेमाल ब्रिटेन में किया जाता है. हालांकि अमेरिका भी इस मामले में पीछे नहीं। अब बात करते हैं कि ये डॉल आखिर बनाई कैसे जाती हैं और इंसानों तक कैसे पंहुचती हैं। दरअसल इन डॉल्स को बनाने का काम अमेरिका की एक फैक्ट्री में किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + ten =